Kumar Vishwas: एक भारतीय हिन्दी कवि, वक्ता और सामाजिक-राजनैतिक कार्यकर्ता

Kumar Vishwas : भारतीय साहित्य के विभिन्न पहलुओं को छूने वाले महान कवियों में से एक,डॉ. कुमार विश्वास का नाम हर एक भारतीय को परिचित है। इनका जन्म 10 फरवरी 1970 को उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के पिलखुआ गाँव में हुआ था। वे भारतीय हिन्दी कवि, वक्ता, और सामाजिक-राजनैतिक कार्यकर्ता हैं और आम आदमी पार्टी के नेता भी रह चुके हैं।

कुमार विश्वास का मूल नाम विश्वास कुमार शर्मा है, लेकिन उन्हें लोगों ने प्यार से ‘डॉ. कुमार विश्वास’ कहना अधिकप्रिय है। वे युवा पीढ़ी के बीच अत्यंत प्रसिद्ध हैं और उनकी कविताएं हिंदी को भारत विश्व में पुनः स्थापित करने में मदद करती हैं।

Kumar Vishwas का प्रारंभिक जीवन और शिक्षा:

kumar Vishwas का जन्म मध्यवर्गीय परिवार में हुआ था, और उनके पिता डॉ. चन्द्रपाल शर्मा एक प्रमुख प्रवक्ता थे। उनकी माता श्रीमती रमा शर्मा गृहिणी थीं। कुमार विश्वास ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा लाला गंगा सहाय विद्यालय, पिलखुआ से प्राप्त की और फिर राजपूताना रेजिमेंट इंटर कॉलेज से बारहवीं उत्तीर्ण होने के बाद, उन्होंने हिंदी साहित्य में स्नातक की डिग्री प्राप्त की।

हालांकि, उनके पिता इंजीनियर बनाना चाहते थे, लेकिन कुमार ने अपनी पढ़ाई में रुचि नहीं ली और बीच में ही उन्होंने इंजीनियरिंग छोड़ दी। उनका मन साहित्य में था और उन्होंने हिंदी साहित्य में स्नातकोत्तर और पीएचडी की डिग्री प्राप्त की।

Table of Contents

 

जीवन वृत्ति:

Kumar Vishwas ने अपना करियर प्रवक्ता के रूप में राजस्थान में शुरू किया, लेकिन उनका असली प्यार कविता में था। उन्होंने हजारों कवि-सम्मेलनों में कविता पाठ किया है और इसके साथ ही वे एक अच्छे गायक भी हैं। वह हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के गीतकार भी हैं और उन्होंने अपनी कविताओं को बॉलीवुड फिल्मों में भी प्रस्तुत किया है।

राजनीतिक दृष्टि से भी कुमार विश्वास ने अपना योगदान दिया है, और उन्होंने आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य के रूप में सेवा की है। हालांकि, उन्होंने अमेठी से लोकसभा चुनाव में योगदान दिया, लेकिन उन्हें वहां से विजय नहीं मिली।

कार्य और उपलब्धियां:

Kumar Vishwas को ‘श्रृंगार रस’ का कवि माना जाता है और उनकी कविता संग्रह ‘कोई दीवाना कहता है’ युवाओं के बीच में बहुत प्रसिद्ध है। उन्होंने अपनी रचनाओं के माध्यम से हिंदी कविता को नए ऊंचाइयों तक पहुंचाया है। उनके द्वारा लिखे गीत भी फिल्मों में देखने को मिले हैं, और उन्होंने अद्वितीय रूप से विभिन्न क्षेत्रों में अपनी पहचान बनाई है।

Kumar Vishwas ने टेलीविजन चैनल पर ‘केवी सम्मेलन’ नामक एक कॉमेडी शो का होस्ट भी किया है, और उन्होंने अभिषेक बच्चन, यामी गौतम, और निम्रत कौर स्तरीय फिल्म ‘दसवीं’ के लिए भी संवाद लिखा है।

मंच:

कवि-सम्मेलनों और मुशायरों के क्षेत्र में भी डॉ. कुमार विश्वास एक प्रमुख कवि हैं, और वे देश भर में अपनी कविताएं प्रस्तुत करते हैं। उनके आलावा, उन्होंने अनेक देशों में भी अपनी कविताएं पढ़ी हैं, जैसे कि अमेरिका, दुबई, सिंगापुर, मस्कट, अबू धाबी, और नेपाल।

पुरस्कार:

Kumar Vishwas को उनकी श्रेष्ठता के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है, जैसे कि –

1. डॉ॰ कुंवर बेचैन काव्य-सम्मान एवम पुरस्कार समिति द्वारा 1994 में ‘काव्य-कुमार पुरस्कार’

2. साहित्य भारती, उन्नाव द्वारा 2004 में ‘डॉ॰ सुमन अलंकरण’

3. हिन्दी-उर्दू अवार्ड अकादमी द्वारा 2006 में ‘साहित्य-श्री’

4. डॉ॰ उर्मिलेश जन चेतना मंच द्वारा 2010 में ‘डॉ॰ उर्मिलेश गीत-श्री’ सम्मान ”

समाप्ति:

डॉ. कुमार विश्वास का योगदान सिर्फ साहित्य में ही नहीं, बल्कि समाज के विभिन्न पहलुओं में भी महत्वपूर्ण है। उनकी कविताएं युवा पीढ़ी को प्रेरित कर रही हैं और उनकी रचनाएं आज भी लोगों के दिलों में बसी हैं। इस रूप में, डॉ. कुमार विश्वास एक ऐसे साहित्यकार हैं जो अपनी शिक्षा, साहित्यिक योगदान, और सामाजिक सेवाओं के लिए समर्थन प्राप्त कर रहे हैं और जिनका प्रभाव भारतीय साहित्य और समाज पर अब तक बना हुआ है।

आशा है कि यह लेख आपको डॉ. Kumar Vishwas के बारे में अधिक जानकारी प्रदान करेगा और आपको उनके साहित्यिक योगदान का समर्थन करने का प्रेरणा देगा।

 

Leave a comment